श्रद्धेय स्व. श्री रामदासजी पांडे को अश्रुपूरित श्रद्धांजलि

श्रद्धेय स्व. श्री रामदासजी पांडे को अश्रुपूरित श्रद्धांजलि

श्रद्धेय स्व.श्री रामदासजी पांडे छोटी आयु में ही संघ के प्रचारक बने । वह श्रद्धेय स्व ठेंडगीजी के सचिव के साथ साथ भारतीय मजदूर संघ के विभिन्न पदों पर रहे ।
श्री रामदासजी1980में संपर्क में आए । आल इंडिया ग्रामीण बैंक वर्कर्स आर्गेनाइजेशन को सहयोग करना तभी से शुरू किया।

1982में नांदेड़,महाराष्ट्र में हुआ पहले अधिवेशन में महत्वपूर्ण योगदान दिया । 1982में ही उनके सहयोग से श्री आदर्श गोयल एडवोकेट के माध्यम से सुप्रीकोर्ट में समान कार्य के लिए समान वेतन की याचिका लगाई गई। nit के गठन के समय हैदराबाद में स्व.रामाराव एडवोकेट के माध्यम ट्रिब्यूनल में ग्रामिणबैंक कर्मचारियों का पक्ष प्रभावशाली ढंग से प्रस्तुत किया किया।
1986में सुंदरनगर हिमाचल के अधिवेशन वह aigbwo के उपाध्यक्ष बने।

nit award ग्रामीण बैंक कर्मियों के पक्ष में आने के बावजूद भारत सरकार द्वारा लागू करने के इनकार करने पर उसे लागू करवाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया ।
1991में अवार्ड लागू करवाने पर के पश्चात सरकार और rbi में घाटे के कारण ग्रामीण बैंको को समाप्त करने की चर्चा शुरू हुई।
उस समय के प्रभावी नेता स्वश्री अटल बिहारी बाजपाई ,सर्वश्री लालकृष्ण आडवाणी , मुरलीमनोहर जोशी , श्री खांडेकर के माध्यम से स्व श्री नरसिंह राव और कई अन्य नेताओं से संपर्क कर ग्रामीण बैंको का भविष्य सुनिश्चित किया ।

1993में aigbwo aigboo के समन्वयक बने।

1995 में निकली गई सवदेशी के लिए जनचेतना यात्रा कुशल मार्गदर्शन दिया।
aigbwo और aigboo के स्थापना से लेकर कार्य भार छोड़ने तक सैकड़ों कार्यकर्ताओं को ग्रामीण बैंक के कार्यकर्ता से भारतीय मजदूर संघ का कार्यकर्ता बनाया।
उन्ही के कारण स्व श्री ठेंगडी जी का मार्गदर्शन 1983,1986,1989 के अभ्यास वर्ग और 1991,1995के अखिल अखिल भारतीय अधिवेशन में संभव हो पाया।

उनके लिए संगठन और कार्यकर्ता अत्यंत महत्वपूर्ण था।

उनके द्वारा समय समय पर कार्यकर्ताओं से टेलीफोन अथवा प्रत्यक्ष संपर्क करउनके हालचाल पूछना उनके स्वभाव में था।

उनके असामयिक निधन पर हम उन्हे अश्रुपूरित श्रद्धांजलि अर्पित करते है । ईश्वर से प्रार्थना करते है की इन पुण्य आत्मा को अपने चरणों में स्थान दे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *